मां का दूध बच्चे के लिए अमृत होता है। जो उसे जीवन दान देता है मां के पौष्टिक दूध से शिशु के शरीर का विकास होता है इसी गुणकारी दूध को पीकर नवजात शिशु हष्ट पुष्ट और बुद्धिमान बनता है। इस अमृतकारी दूध में एंटीबॉडी व जरूरी पोषक तत्व भी होते हैं जिससे शिशु की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

मां बनना हर महिला के जीवन का सबसे खूबसूरत एहसास है परंतु नन्हे मुन्ने की जरूरत को समझना उसकी देखभाल करना किसी चुनौती से कम नहीं होता, नवजात बच्चे की सबसे पहली जरूरत होती है मां का दूध। ऐसे में शिशु को स्तनपान किस प्रकार करवाया जाए, कितने समय तक करवाना चाहिए इस तरह की महत्वपूर्ण बातों की जानकारी अमूमन पहली बार मां बन रही महिलाओं को नहीं होती या बहुत कम होती है। बच्चे को स्तनपान कैसे करवाया जाए ? इसी पर महत्वपूर्ण जानकारी आपके लिए दे रहे है ।

बच्चे को स्तनपान करवाने से पहले सही प्रकार से गोद में लेकर उसे निप्पल पकड़ने में मदद करें, अपनी पीठ के पीछे मोटा तकिया या सहारा लगा लें, जिससे बच्चा स्तन को ठीक प्रकार से मुंह में पकड़ सके बच्चे की सही पोजीशन का अंदाज इस बात से लगाया जाता है कि उसका पेट आपके पेट के साथ मिलना चाहिए ।

बच्चे के सिर को एक हाथ से सहारा दे और दूसरे हाथ से अपने स्तन को पकड़कर बच्चे को दूध पीने में मदद करें।

जन्म के बाद से कुछ समय तक बच्चे को हर डेढ़ से 2 घंटे के अंतराल पर स्तनपान करवाना चाहिए।

बच्चे को रोने से पहले ही एक निर्धारित समय के अंदर स्तनपान करवाते रहना चाहिए क्योंकि अगर बच्चा रोएगा तो उसको स्तनपान करवाने में परेशानी आती है।

बच्चे को कम से कम 20 मिनट तक स्तनपान करने दें। जब तक आप हल्कापन महसूस ना करें बच्चे को स्तनपान करने दें स्तनपान महिला और बच्चे दोनों के लिए बहुत लाभप्रद है जो महिलाएं स्तनपान नहीं करवाती हैं उन्हें ब्रेस्ट कैंसर का खतरा ज्यादा रहता है।

बच्चे को बारी-बारी दोनों स्तन से दूध पिलाना चाहिए यदि बच्चा भूखा होगा तो वह हटाने के बाद भी अपना मुँह चलाएगा या फिर अपनी अंगुली को चूंसेगा नवजात बच्चे को 24 घंटे में कम से कम 10-11 बार स्तनपान करवाना चाहिए।

स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए परंतु ऐसा बिल्कुल नहीं है कि बिना भूख और प्यास के दिन भर खाती पीती ही रहें ऐसा करने से उनको कब्ज और पेट खराब हो जायेगा, जो माँ और बच्चे दोनों के लिए सही नहीं होगा ।

नवजात के पोषण के लिए मां का स्तनपान कराना बहुत ही आवश्यक है ये शिशु को जीवन भर के लिए पोषण देता है उसमें एक इम्युनिटी बनाता है जो की उसे जीवन भर बहुत से घातक रोगों से सुरक्षा देती है।

आपके लिए ये Article ” बच्चे को स्तनपान कराने के तरीके Ways to Breastfeed baby”  कितना उपयोगी लगा कृपया कमेंट करके जरूर बताएं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *