होली रंगों का त्योहार है। रंग जीवन में खुशियाँ बिखेरते हैं। हर्ष और उल्लास से भरे इस त्यौहार का अपना अलग ही आनंद है। परन्तु कोरोनावायरस  व रासायनिक रंग Chemical’s colour हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं,ऐसे में  सुरक्षित होली कैसे खेले ?  कुछ एतिहयात बरतके आप इस उत्साह और उमंग के त्योहार का आनंद ले सकते हैं,

  • आपको पूरी सफाई और उत्साह के साथ होली खेलनी चाहिए, अपनी आँखों, नाक और मुंह पर हाथ लगाने से बचें, बड़े समूहों में होली न खेलें। मुंह पर मास्क का इस्तेमाल करें।
  • जब भी आप होली खेलने बाहर निकलें, अपने पूरे शरीर पर, विशेषकर चेहरे पर तेल लगाएं।
  • होली खेलने के लिए पुराने कपड़ों का उपयोग करें, जहाँ तक संभव हो अपनी त्वचा को ढँकें और कपड़े को पूरी आस्तीन के साथ कवर करें। कपड़ों का गला भी छोटा होना चाहिए। इससे आपकी त्वचा रंग के सीधे प्रभाव से बची रहेगी 
  • होली खेलने से पहले, महिलाओं को अपने हाथों और पैर के सभी नाखूनों पर नेल पॉलिश लगाना चाहिए 
  • होली खेलते हैं। उस समय आँखों का विशेष ध्यान रखें क्योंकि आंखें हमारे बहुत कोमल अंग हैं। आपकी आँखों में रंग न लगाने दें अगर रंग थोड़ी लापरवाही से आंखों में चला जाए, तो आँखों मे जलन हो सकती हैं, आंखें लाल हो सकती हैं, साथ ही आंखों में अधिक नुकसान हो सकता है, अगर आंखों में अधिक जलन होती है तोआंखों के शीर्ष पर चंदन का पेस्ट लगाएं आंखों में डालने के लिए गुलाब जल का भी उपयोग किया जा सकता है,
  • अपने सिर पर तोलिया, स्कार्फ या कपड़ा बांधकर ही होली खेले इससे आपके बाल रंग के असर से सुरक्षित रहेंगे बालों में रंग लगने से बाल टूटते हैं व बालों का वर्ण भी समाप्त हो सकता है
  • यदि आपकी त्वचा कटी फटी हो या शरीर पर फोड़े फुंसी या घाव हो तो रंगों से बचें यदि होली खेलनी ही पड़े तो पट्टी बांधकर या रुग्ण स्थान पर कपड़ा आदि ढककर खेलें वरना रंग से घुला रासायनिक तत्व घाव के जरिए खून में मिल सकता है इससे घाव भरने में समय लगेगा या अन्य कोई भी बीमारी हो सकती है।
  • होली का रंग छुड़ाने के लिए कपड़े धोने के साबुन या सोडे का बिल्कुल इस्तेमाल ना करें कपड़े धोने के डिटर्जेंट से त्वचा पर लगा रंग तो शीघ्र छूटेगा परंतु इससे त्वचा को नुकसान हो सकता है त्वचा खुश्क हो जाती है अच्छा यह है कि आप नहाने वाले साबुन का ही प्रयोग करें
  •  चेहरे की त्वचा का रंग छुड़ाने के लिए आटे में जरा सा तेल हल्दी डालकर उबटन बनाने तथा चेहरे पर लगाकर हल्के हल्के रगड़े इससे जहां रंग छूट जाएगा वही त्वचा भी खुश्क नहीं होगी
  • रंग उतारने के बाद यदि त्वचा में हल्की सी जलन हो जाये तो ग्लिसरीन में गुलाब जल मिलाकर कुछ देर लगाएं ऐसा थोड़ी देर पश्चात गुनगुने जल से चेहरे को धो कर हल्के हाथ से थपथपा कर पौंछ ले इसमें नींबू ना डालें क्योंकि रंग से कटी त्वचा के लिए नुकसानदायक होता है
  • चेहरे की परवरिश के साथ ही हाथों और पैरों की परवरिश आवश्यक है क्योंकि बदलते मौसम का असर हाथों में पैरों पर ही पड़ता है इसके लिए तिल के तेल में बेसन के स्थान पर हल्दी एवं चंदन का मिश्रण तैयार करें इसमें थोड़ा सा आटा भी मिला लें इस उबटन को चेहरे हाथों में पैरों पर मलें इससे आपकी त्वचा की खूबसूरती बढ़ेगी

कोरोना के माहौल में व घटिया व रासायनिक रंगों के साथ  सुरक्षित होली कैसे खेलें ? यह चिंता का विषय है परंतु कुछ एतिहयात बरतने के साथ सेहत को सुरक्षित रखते हुए आप होली के त्यौहार को उमंग व उल्लास के साथ मना सकते हैं और आनंद से गा सकते हैं होली खेले रघुवीरा ……अवध में होली खेले रघुवीरा…….l

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें Comment करके जरूर बताएं l

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *